Pushya Nakshatra 2019: आज है पुष्य नक्षत्र, जानिए महत्व, और खरीदारी का शुभ मुहूर्त

नक्षत्रों में पुष्य नक्षत्र को श्रेष्ठ माना जाता है। इस दिन खरीदारी और दूसरे शुभ कार्य करने का महत्व है। दिपावली के पहले आने वाले पुष्य नक्षत्र को खरीदारी करना अति शुभ माना जाता है। इसलिए इस दिन बाजारों में लोगों का भारी जमावड़ा रहता है। लोग बहीखाते से लेकर सोने-चांदी तक की इस दिन खरीदारी करते हैं। पुष्य नक्षत्र यदि गुरुवार या रविवार को आए तो बहुत शुभ होता है। वैसे तो हर कार्य के लिए अलग-अलग शुभ मुहूर्त होते हैं और इन्ही मुहूर्तों में शुभ कार्य किए जाते हैं।इस बार पुष्य नक्षत्र 21 अक्टूबर सोमवार को है।

पुष्य…

Continue Reading

9 वें दिन मां सिद्धिदात्री की उपासना से सर्वकार्य होते हैं सुलभ

शारदीय नवरात्रि प्रतिपदा से शुरू होकर का नौवे दिन भक्ति के चरम पर पहुंच जाती है। इस दिन माता सिद्धिदात्री की आराधना की जाती है। देवी की आराधना में मन लगाकर आठ दिनों तक भक्तिभाव से परिपूर्ण रहने पर भक्त को नौवे दिन सिद्धियों की प्राप्ति होती है। साधक के सभी कार्य सुलभ हो जाते हैं और जीवन सफलताओं से भर जाता है।

नौवें दिन सिद्धिदात्री को मौसमी फल, हलवा, पूरी, काले चने, ऋतुफल और नारियल का भोग लगाएं। नवरात्रि के दिन देवी आराधना के साथ नवरात्रि की उपासना का समापन किया जाता है। माता सिद्धिदात्री की उपासना से धर्म,…

Continue Reading

राशिफल 06 अक्टूबरः देखें, ग्रहण योग के प्रभाव में कैसा गुजरेगा रविवार

 

आज रात चंद्रमा धनु राशि से शनि के घर मकर में प्रवेश करेंगे। इससे एक तरफ धनु राशि में बना त्रिग्रही योग समाप्त होगा तो दूसरी ओर ग्रहण योग का प्रभाव भी खत्म हो जाएगा। ऐसे में ग्रहण योग जाते-जाते किन-किन राशियों को परेशान करेगा, देखिए क्या कहते हैं आपके सितारे…

मेष

मेष राशि वालों पर सितारे कई दिनों बाद आज पूरी तरह मेहरबान हैं। भाग्य आपका प्रबल रहेगा, जो भी काम करेंगे उनमें परिश्रम के अनुपात में लाभ दोगुना रहेगा। पराक्रम में वृद्धि होगी। आज आपका मनोबल तेजी से बढ़ेगा। मित्रों के साथ पार्टी, पिकनिक का आयोजन कर सकते…

Continue Reading

शरद पूर्णिमा 2019: जानिए कब है शरद पूर्णिमा, क्या है महत्व और शुभ मुहूर्त

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। इसे रास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार पूरे वर्ष में केवल इसी दिन चंद्रमा सोलह कलाओं से निपुण होता है और इससे निकलने वाली किरणें इस रात्रि में अमृत बरसाती हैं। शरद पूर्णिमा की रात्रि को दूध की खीर बनाकर चंद्रमा की रोशनी में रखी जाती है। मान्यता है कि चंद्रमा की किरणें खीर में पड़ने से यह अमृत समान गुणकारी और लाभकारी हो जाती हैं। आज के दिन पवित्र गंगा जी का जल भरने का रिवाज है। वैज्ञानिक तथ्यों के अनुसार इस…

Continue Reading

भय मुक्त होने के लिए छठवें दिन करें बृज मंडल की अधिष्ठात्री देवी कात्यायनी की पूजा

नवरात्र के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। इनकी कृपा से ही सारे कार्य पूरे हो जाते हैं। मां कात्यायनी की भक्ति और उपासना द्वारा मनुष्यों को बड़ी सरलता से अर्थ, धर्म, काम, मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति हो जाती है। नवरात्रि के छठे दिन देवी कात्यायनी के रूप में मां दुर्गा की पूजा का बहुत महत्व है। योगियों और साधकों द्वारा इस दिन पर आज्ञा चक्र पर तपस्या की जाती है। इस दिन पर पूजा करने पर मां को मानव के प्रस्ताव से सब कुछ मिल जाता है और वह अपने भक्त को आशीर्वाद देती हैं।…

Continue Reading